उन्नाव दुष्कर्म मामले में जब सरकार पुलिस तेजी से लगी है अदालत लगी है तो सो नेतागिरी क्यों
July 31, 2019 • UPMA SHUKLA

उन्नाव दुष्कर्म उन्नाव दुष्कर्म कांड के बारे में मेरे आरडी शुक्ला यह बता रहा हूं यह मामला एक प्रतिष्ठित ठाकुर परिवार का है जब से विवाद शुरू हुआ है जिस प्रकार की रिपोर्टिंग हुई है मीडिया के द्वारा उसके द्वारा जो जानकारी है उसमें लगता है कोई बड़ा परिवार आपस में भिड़ गया है उससे अपना नुकसान कर बैठा है तो उसमें उन्नाव के कुलदीप सेंगर विधायक के घर परिवार मैं गैर कानूनी कार्रवाई होने लगी जाने जाने लगी तो तत्काल यह सरकार जागी कुलदीप सेंगर भाजपा के विधायक थे तत्काल उन पर मुकदमा कायम हुआ वह जेल गए उनको सजा मिली पीड़िता को तत्काल प्रभाव से सुरक्षा दी गई मामले चल रहे हैं अदालत में क्या कार्रवाई चल रही है सरकार में कार्रवाई चल रही है लोग जेल में बंद है इससे ज्यादा सरकार पुलिस प्रशासन नेता क्या कर सकते हैं बात तो वहां पहुंच चुकी है जहां उसका अंत होना है अपराध सड़क पर आ गया है राज खुल नहीं खोलना है इसमें बर्बादी किसी एक परिवार की है और परेशानी पूरे देश को आज देखा जाए पता नहीं कितनी बार दाते होती होंगी जो सिंगल वाले मामले से ज्यादा बड़ी है ok

उनको नहीं उठाया जाता कारण है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का कार्य वह किसी कार्य में पीछे नहीं रहते जिओ ही उनको मालूम हुआ विधायक का मामला उनके संज्ञान में आया 25 करोड़ 30 करोड़ जनता को चलाना कोई मामूली काम नहीं है उसमें ही एक मामला यह निकल कर आया तुरंत कार्रवाई हुई लोग जेल गए मामले अदालत में गए रंजीत से देखकर पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था प्रदान की गई किसी तरह की कोई कोताही नहीं हो रही थी आखिर में योजनाएं घटना है किसी समय भी किसी रूप में किसी तरह से घटित हो सकती हैं मैंने अपराध संवाददाता के पद पर रिपोर्टिंग करके 50 साल में पाया सब एक खिलाड़ी के खिलाड़ी है इस अपराध की दुनिया में किस तरह से योजना कहां बन जाए उसका कोई ठिकाना नहीं पुलिस को पता करने में बहुत समय लग जाता है लेकिन वह सुराग पा जाती है और वह कार्रवाई भी करती है जिसके परिणाम सामने आते हैं जनता देखती है उसी तरीके से अपने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कभी किसी इस मामले में क्या किसी मामले में कोई पक्षपात नहीं करते फिर एक साधु सरकार चला रहा है तो क्या वह अपने ही राज में हिंसक वारदातें करवा लेगा आपराधिक वारदातें करवाएगा अपनी बदनामी करवाएगा यूट्यूब विपक्षी पार्टियों के बारे में कहा जा सकता क्यों उनको मोदी जी और योगी जी के पीछे कोई बात नहीं मिल रही है जबकि मिलने भी नहीं है वह परेशान रहते हैं और किसी न किसी मुद्दे को उठाना है तो चलो कोई मामला मिले लेकिन सफलता नहीं मिलेगी पुलिस अपना काम कर रही है सरकार अपना काम कर रही है प्रशासन अपना काम कर रहा है अदालत अग्रिम रूप में है तो हमें बजाय नेतागिरी करने के थोड़ा सा संयम रखते हुए शांत रहना चाहिए चिल्लाने से कुछ नहीं मिलेगा 50 साल मैं आज तक हमने हासिल क्या किया बेरोजगारी वह भी अति में अति में भीड़ अति में अब अफरा-तफरी महंगाई तो आप सोचे की ऐसी हालत में अगर अपराध बढ़ रहे हैं यह घटनाएं बढ़ रही है तो प्रदेश में केवल एक सिंगर का मामला नहीं है देश में पता नहीं कितने हो रहे होंगे लेकिन उसके लिए सक्षम अधिकारी हैं हमारे देश में लोकतंत्र हैं हम हम भारत के लोग हैं लोकतंत्र को चलाना जानते हैं और चला रहे हैं पिछले 70 साल से कंधे से कंधा लगाकर हम देश को चला रहे हैं प्रदेश को चला रहे हैं मीडिया को चाहिए की इन मामलों में इतना समझ के चले एक ऐसी सरकार की जरूरत है कैसा माहौल है आज योगी जी का ही बल था प्रयाग में इतना बड़ा कुंभ करवा दिया जो कभी कोई सोच नहीं सकता होगा किसी ने सोचा नहीं होगा कितने साधुओं को इकट्ठा कर दिया इस धरती पर और उनकी व्यवस्था व्यवस्था ऐसी की क्यों कभी जिंदगी में नसीब नहीं हो सकती थी असली चुनाव फ्री में हो गया था इमानदारी के लोग इकट्ठा हुए धर्म की बात हुई किस बार धर्म की सत्ता बने बनी खूब अच्छी बनी पूरे भारतवर्ष में बनी भारत की सरकार बनी प्रदेश की सरकार बनी दोनों जगह साधु बैठ गए अब जो हो रहा है उस पर हमको विश्वास करके अपने नेताओं क्या मालूम वर्तमान समय की व्यवस्था को संभालने के लिए कोई अवतारी पैदा हो गए हो वरना इससे पहले 20 25 साल खतरनाक बीते हैं जो दल अब तक सरकार चला रहे थे प्रदेश व देश को लूट रहे थे जनता ने एकदम से बदल दिया अब कुछ ठीक हो रहा है तो विरोध कैसे हो यह उसके नमूने और यह चलते रहेंगे लेकिन कसाई इस बार ठीक हो रही है भ्रष्टाचार बेईमानी और अपराधियों पर सही प्रहार हो रहा है तो उस से बौखलाए लोग तरह-तरह की बातें कर रहा है घटनाएं कर रहे हैं करवाया ही जा रही है उस पर खर्चा हो रहा है हमारी पुलिस पर इतना पैसा कहां है जितना कि अपराधियों के पास है और वह जमकर खर्च कर रहे हैं इस पुलिस को बदनाम करने के लिए अपराधी इसी मैं भारी है किरात सत्ता जो अब तक की थी वह उनकी थी अपराधियों की थी और इस समय संतो के पास है तो उसका असर पड़ेगा ही इसी से फड़फड़ा कर यह चीजें पैदा हो रही है हम लोग थोड़ा सा समय सरकार को दें भरोसा करें और हम कर रहे हैं तो ठीक है अभी तो विश्वास करें अभी तो 50 दिन नहीं हुए हैं सरकार के बने तो फिर थोड़ा सा इंतजार बाकी देश परदेश में जितनी शांति इस समय है उतनी कभी नहीं रहे उसको अगर हम राजनीतिक ढंग से देखें तू अलग दिखेगा मीडिया अपने रूप में दिखाएगा शासन प्रशासन अपने रूप में दिखाएगा सब भ्रमित हो जाएंगे ऐसी हालत में हम आज  बुरे दौर से गुजर रहा है हमको नेतृत्व अच्छा मिल गया है यह हमारा भाग्य है कभी हमने पुण्य किया होगा तो यह कुर्बानी योगी और मोदी हम लोगों को प्राप्त हो गए हैं वरना जान देने के लिए तैयार कौन होता है यह मर्जी बड़े देश प्रदेश के काम आ रहे हैं लोग परेशान है होना भी चाहिए कम से कम मैं अपनी उम्र में जानता हूं कि लोग इसीलिए 20 25 साल में कहां से कहां पहुंच गए जो सरकारें आई उन्होंने खूब प्रदेश को लूटा कसौटा क्या यह सच नहीं है सफाई बना क्या यह सच नहीं है सहारा बना था बड़े-बड़े आलीशान कार करना में हुए आज जनता को मजबूरन सर झुका कर भाजपा से समझौता करना पड़ा उसको वोट देना पड़ा जिसको अछूत समझ  रहे थे वॉटर उनको आज उनके हाथ पैर जोड़ने पड़ रहा है तो अभी हमको अपनी तरफ से कोई विश्लेषण नहीं करना चाहिए और हम ना कर रहे हैं हम तो सिर्फ इतना बता रहे हैं कि अभी इन आपराधिक मामलों में अपना विश्लेषण ना करके एजेंसियों को काम करने दिया जाए यही बेहतर होगा मैं सिर्फ यही चाहता हूं सब को न्याय मिले शांति रहे आरडी शुक्ला आपको फिर मिलेंगे फिर किसी नई कहानी के साथ जो आएगा मन में आपके लिए लिखते जाएंगे