पत्रकार की परिभाषा जानते हो
August 13, 2019 • UPMA SHUKLA

आज मैं आपको सुनाता हूं की जिसके बाद मैं आश्चर्यचकित होकर पत्रकारिता की वास्तविक परिभाषा समझ पाया हमारा ख्याल है 99 प्रतिशत पत्रकार गैर पत्रकार लोग पत्रकारिता की परिभाषा ही नहीं जानते होंगे जब मैं 80 के दशक में देश प्रदेश के सबसे बड़े अखबार में पत्रकारिता करने गया और इंटरव्यू दिया तो वहां सिर्फ एक चीज पूछी गई और वह भी पूछने वाला कोई मामूली व्यक्ति नहीं स्वर्गीय चंद्रोदय दीक्षित जी थे बताओ पंडित जी पत्रकारिता की परिभाषा क्या होती है अब मुझे जो मालूम था वह सब उटपटांग था बताता चला गया वह चुपचाप सुनते रहे और बाद में जब वह कुछ नहीं बोले तो मैं समझ गया कि वह हमारी परिभाषा से संतुष्ट नहीं है वैसे आज भी मास कम्युनिकेशन की शिक्षा हो या अखबारी कारखानों का ज्ञान कहीं भी वह परिभाषा नहीं बताई जाती जो उस दिन स्वर्गीय विद्वान संपादक चंद्रोदय दीक्षित जी ने हम को बताई उन्होंने कहा सुन लो पत्रकारिता की परिभाषा और ठीक से याद कर लो पत्रकार होता है संत संत अपनी वाणी से समाज को सुधारने का कार्य करता है उसकी गलतियों और उसकी खामियों को अपनी वाणी से दूर करने की कोशिश करता है ठीक उसी प्रकार पत्रकार अपनी लेखनी से और अपने लेख से समाज में व्याप्त कुरीतियों को दूर करने का प्रयास करता है गरीब वंचित लोगों को न्याय दिलवाने का काम करता है पीड़ित परेशान लोगों को सरकार से मदद जलवा ता है यह सब कार्य और लेखनी से करता है संत अपनी वाणी से करता है यह परिभाषा कितने पत्रकारों को मालूम है और कितने लोग इस परिभाषा पर अमल करते हैं आज के समय में जब चारों ओर कटुता फैलाने का काम हो रहा है सबके हाथ में टेलीफोन है और इस टेलीफोन के माध्यम से वह पता नहीं क्या क्या चीजें लिखकर नेट के द्वारा प्रसारित करता रहता है अच्छी बुरी सब ठीक इसी तरीके से हमारे खबरिया चैनल अखबार और सोशल मीडिया पता नहीं क्या क्या प्रसारित करते रहते हैं 24 घंटे बंद नहीं होते खबरिया चैनल और प्रिंट मीडिया तो कहीं ना कहीं से बंधे हुए हैं और यह इतना गलत नहीं कर सकते जितना कि सोशल मीडिया कर रहा है जबकि आज जरूरत है सोशल मीडिया समाज को कटुता से बचाए लोगों की परेशानियों को हल करें उस में मदद करें लेकिन हो उल्टा रहा है जितना गलत से गलत संदेश सोशल मीडिया में प्रसारित किया जा रहा है वह आने वाले कल के लिए खतरे की घंटी है हम लोगों ने पत्रकारिता की तो हम लोगों ने गरीबों वंचितों के हितों के लिए सरकार को हमेशा चेताया और सरकार से पीड़ितों के मदद दिलवाई पत्रकारों का कार्य भी यही है पत्रकारों का कार्य अफवाह फैलाना या पैसा कमाना नहीं है बल्कि अपराधी भ्रष्टाचारी और बेईमान लोगों को समाज और सरकार के सामने लाकर उन्हें सजा दिलाना है उनके लिए कवच का काम करना नहीं आज क्या हो रहा है आप भी जान रहे हैं हम भी जान रहे हैं किस तरीके से यह अपराधी भ्रष्टाचारी और बेईमान गरीब जनता को प्रताड़ित कर रहे हैं अब भाग्य की बात है किस देश में एक ईमानदार प्रधानमंत्री बन गया है प्रदेश में एक इमानदार साधु मुख्यमंत्री बन गया है अब इन दोनों को 5 साल काम करना है तो वह काम क्या करें रोज उनको किसी ने किसी व वाले में उलझा कर यह मीडिया उनका समय नष्ट कर रहा है जबकि वह बिना रुके बिना घबराए लगातार देश प्रदेश के हित में बड़े से बड़े कदम उठाते जा रहे हैं यहां तक कि जो कई दशकों तक नहीं उठाए गए अब अगर हम यहीं ले ले कि इस बार लोकसभा में 50 दिन की सरकार ने सबसे अधिक कार्य किया प्रदेश में ले ले प्रदेश सरकार ने गजब के काम किए लेकिन उसके बाद भी विपक्ष संतुष्ट नहीं है और ना भी संतुष्ट हो तो उससे जनता को क्या लेना जनता को तो सरकार से लेना है और सरकार से जवाब लेना है इसलिए पत्रकार बंधुओं को चाहिए जो अपनी लेखनी उस ओर बढ़ाएं जिसमें जनता और समाज का हित हो आज सभी जान रहे हैं किस देश में जनसंख्या विस्फोट है आबादी बहुत बढ़ चुकी है बेरोजगारी सीमा पार है ऐसे में अगर हम सब मिलकर एक दूसरे का सहयोग नहीं करेंगे खास तौर पर सरकार का सहयोग नहीं करेंगे तो आखिर हमारे नौजवानों को कहां से नौकरी मिलेगी और उनको नौकरी नहीं मिलेगी तो आगे देश का भविष्य क्या होगा विकास कैसे होगा प्रधानमंत्री कह रहे हैं और उनका प्रथम नारा भी विकास है और विकास की जरूरत भी है देश को तो आज पत्रकार भाइयों को चाहिए कि वे ऐसा माहौल तैयार करें जिससे कि हमारी देश और प्रदेश की सरकारों को बिना किसी रुकावट के विकास के कार्य को आगे बढ़ाते रहें यह तभी संभव है जब हम कानून व्यवस्था जैसी की इस समय मौजूदा में दिखाई दे रही है ऐसी ही रहे और प्रशासनिक ढांचे को जनता का सहयोग मिलता रहे मीडिया का सहयोग मिलता रहे फिलहाल सरकार पांच 5 साल अब चलनी ही है उसको सामने कोई रुकावट नहीं है अब रिकॉर्ड जलने वाले विपक्षी कम से कम कुछ सालों तक चुपचाप बैठ जाएं और सरकार को काम करने दे परिणाम सामने आएगा फिर चुनाव होंगे जिसको जो कहना है कह लेगा जो खानी होगी चिल्ला लेगा लेकिन अभी अभी चुनाव हुए हैं अभी से हाय तौबा मचा ना न जनता के हित में है अन्ना सरकार के हित में है अभी दिल्ली सरकार और प्रदेश की सरकार ठीक रास्ते पर दौड़ रही है उसको पटरी से नहीं उतरने देना है हमारे खबरिया चैनल और अखबार सही रास्ते पर चल रहे हैं बस गड़बड़ है तो सोशल मीडिया में उसमें भी आए अब कटुता और बेकार की चीजों को लोग डालना बंद कर दें अपने आप देश का उद्धार शुरू हो जाएगा मैं आरडी शुक्ला आपको नई नई चीज बताता रहूंगा हां इतना जरूर है रोजमर्रा की खबरों में आप को उलझा कर परेशान नहीं करूंगा धन्यवाद